DATE : 19 Aug 13:05
Asia News Network
Google Adward
Asia News Network
पहले ही दिन फिल्म ‘संजू’ ने तोड़े रिकॉर्ड, 34.75 करोड़ कि कमाई पिता ने बेटी को जान से मार के बॉलीवुड स्‍टाइल में छिपाई लाश तीन तलाक के बाद अब हलाला निकाह और बहुविवाह प्रथा पर होगी सुनवाई त्रिपुरा मे अफवाह की वज़ह से भीड़ ने दो लोगों की पीट-पीटकर कि हत्या 'सत्यमेव जयते' का धमाकेदार ट्रेलर रिलीज मुंबई मे चार्टर्ड प्लेन क्रैश होने से एक राहगीर समेत 5 लोगों की मौत अमेरिकी डॉलर की तुलना में रुपया कि ऐतिहासिक गिरावट, 49 पैसे तक गिरा ठीक एक महीने बाद लगेगा 21वीं सदी का सबसे लंबा और पूर्ण चंद्र ग्रहण इरफान खान की फिल्म 'कारवां' का ट्रेलर रिलीज मनचलो से परेशान होकर 4 बेटियों के पिता ने मोदी, योगी से की मदद की गुहार गड्ढे में फंसी वडोदरा मेयर की कार, लोग ले रहे मजे सोनिया गांधी के दामाद पर आयकर विभाग का शिकंजा, भेजा नोटिस iPhone X जैसी डिस्प्ले वाला फोन हुआ लॉन्च, बहुत कम है कीमत फिल्म गोल्ड का ऑफिशियल ट्रेलर हुआ रिलीज़ दिल्ली में बहुत जल्द दस्तक देगा मानसून ‘नच बलिए 8’ का वीडियो मोनालिसा ने इंस्टाग्राम पर किया शेयर,सोशल मीडिया पर हुआ काफी वायरल अंतर्राष्ट्रीय विधवा दिवस के उपलक्ष्य में हजारो विधवाओं ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखे पत्र ट्रंप ने कहा है, कि जिन्हें बाकी देश कचरा समझते हैं, ऐसे लोग अमेरिका से रहे दूर मध्य प्रदेश में कई योजनाओं का मोदी करेंगे उद्घघाटन रेप के आरोप में फंसे दाती महाराज से दूसरी बार पूछताछ

भारत शनिवार , 30 जून 2018

तीन तलाक के बाद अब हलाला निकाह और बहुविवाह प्रथा पर होगी सुनवाई

तीन तलाक के बाद अब हलाला निकाह और बहुविवाह प्रथा पर होगी सुनवाई  एएनएन,शाज़िया: कानून मंत्रालय के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने 29 जून, 2018 को कहा है, कि सरकार उच्चतम न्यायालय में ‘निकाह हलाला’ की प्रथा का विरोध करेगी, जब शीर्ष अदालत आने वाले दिनों में इसकी कानूनी वैधता की पड़ताल करेगी। ‘निकाह हलाला’ मुसलमानों में वह प्रथा है जो समुदाय के किसी व्यक्ति को अपनी तलाकशुदा पत्नी से फिर से शादी करने की इजाज़त देता है। मंत्रालय के अधिकारी ने कहा है, कि सरकार का मानना है कि यह प्रथा ‘लैंगिक न्याय’ के सिद्धांतों के खिलाफ है और उसने इस मुद्दे पर शीर्ष न्यायालय में अपना रूख स्पष्ट कर दिया था। शीर्ष न्यायालय ने पहले सिर्फ ‘तीन तलाक’ के मुद्दे पर सुनवाई करने का फैसला किया था, जबकि निकाह हलाला और बहुविवाह प्रथा पर अलग से विचार करने का फैसला किया गया था। मार्च में उच्चतम न्यायालय ने निकाह हलाला और बहुविवाह प्रथा पर केंद्र को नोटिस जारी किया था। अधिकारी ने कहा कि सरकार का रुख एक जैसा है … भारत सरकार इस प्रथा के खिलाफ है। शीर्ष न्यायालय ने पिछले साल तीन तलाक की प्रथा को असंवैधानिक घोषित कर दिया था। मसौदा कानून के तहत तीन तलाक किसी भी रूप में (मौखिक , लिखित या ईमेल , एसएमएस और व्हाट्सऐप सहित इलेक्ट्रानिक तरीके से) अवैध और अमान्य होगा और पति के लिए तीन साल की कैद की सज़ा का प्रावधान करता है। निकाह हलाला की कानूनी वैधता की अब उच्चतम न्यायालय पड़ताल करेगा। न्यायालय की एक संविधान पीठ इस प्रथा की वैधता को चुनौती देने वाली चार याचिकाओं पर सुनवाई करेगी। निकाह हलाला के तहत एक व्यक्ति अपनी पूर्व पत्नी से तब तक दोबारा शादी नहीं कर सकता … जब तक कि वह महिला किसी अन्य पुरूष से शादी कर उससे शारीरिक संबंध नहीं बना लेती और फिर उससे तलाक लेकर अलग रहने की अवधि (इद्दत) पूरा नहीं कर लेती।

Disclaimer :
ANN 24X7 “Asia News Network” is not responsible for the content of external internet sites.
Republication or redissemination of the contents of this screen are expressly prohibited without the written consent of ANN 24X7.
© Copyright 2012 ann24x7.com. Developed By Aj Infotek.